Friday, September 3, 2010

कहीं कोई चिट्ठी

खुशबू तुम्हारी
महका रही है
हंसी की गूँज
गुदगुदा रही है .

तुम्हारी आँखों में
लाज के डोरे
खींचे अपनी ओर
मुझको बुला रहे हैं .

कलाई में बजता
कंगन का जोड़ा
कानो में मेरे
गीत गा रहे हैं .

गालों पर उड़ते
वो आवारा गेसू
लगता है जैसे
मुझको चिढ़ा रहे हैं .

कागज पे तेरा
छुप छुप के लिखना
कहीं कोई चिट्ठी
मेरे गाँव आ रही हैं .

14 comments:

  1. सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

    ReplyDelete
  2. कागज पे तेरा
    छुप छुप के लिखना
    कहीं कोई चिट्ठी
    मेरे गाँव आ रही हैं .


    -बहुत उम्दा अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  3. कहीं कोई चिट्ठी
    मेरे गाँव आ रही हैं ...
    kya hai us pyaari se chiththi me , mujhe bhi intzaar hai

    ReplyDelete
  4. aapke bhaa unka shbdon me dhaal kr blog men prstutikrn unkaa chitrn bhut khub he bdhayi ho. akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  5. ग़ालिब का एक शेर था, ठीक से याद नहीं आ रहा है, सरल भाषा में अर्ज है :
    डाकिये के आने तक एक ख़त और तैयार कर लूं,
    मैं जानता हूँ, वो क्या लिखने वाले है जवाब में !

    कागज पे तेरा
    छुप छुप के लिखना
    कहीं कोई चिट्ठी
    मेरे गाँव आ रही हैं .

    बढिया अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  6. चिठ्ठी से अधिक उसकी प्रतीक्षा गुदगुदाती है।

    ReplyDelete
  7. अरे वाह बहुत बढ़िया मित्र...

    ReplyDelete
  8. गालों पर उड़ते
    वो आवारा गेसू
    लगता है जैसे
    मुझको चिढ़ा रहे हैं .
    इसमें चित्रात्मकता बहुत है। आपने बिम्बों से इसे सजाया है। क्षुष बिम्ब का सुंदर तथा सधा हुआ प्रयोग।

    फ़ुरसत में .. कुल्हड़ की चाय, “मनोज” पर, ... आमंत्रित हैं!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर भावो से भरी रचना।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भाव ...अब तो चिट्ठी का इंतज़ार भी खत्म हो गया है

    ReplyDelete
  11. bhaon ka bahoot hi sunder chitran ...........

    ReplyDelete
  12. शिक्षक दिवस की बधाई

    ReplyDelete