Thursday, August 19, 2010

आंसू

आंसू नहीं हैं
बहाने के लिए
संजो कर रखो
छुपा कर रखो
इन्हें
अनमोल मोती हैं
तुम्हारे मन सागर के
ह्रदय सीपी की
धरोहर हैं ये ।

भावों की
पतवार लिए
तिरते हैं ये
घड़ी - घड़ी
इन्हें यूं तनहा
मत छोडो
बिखर जायेंगे
कड़ी - कड़ी ।

आंसुओं को यूं
जाया न करो
रखो उन खुशियों के लिए
जो चाहता हूँ
मैं देना तुम्हें ।

उन खुशगवार लम्हों
के लिए रखो
जब उजास भर गया था
तुम्हारे चेहरे पर
देख मेरा दीप्त चेहरा .

आंसुओं को रखो
तब के लिए भी
जब मिलेगा तुम्हें
अपना खोया हुआ मित्र
धो देना सारे गिले
कर देना इनका अचवन ।

काम आयेंगे
उस समय भी
ये आंसू
जब कंठ से लगा
खोलोगी ह्रदय कपाट
सम्मुख मेरे ।

17 comments:

  1. पन्कज त्रिवेदी (pankajtrivedi102@gmail.com)ने इमेल से कहा :
    "वाकई आपने ला-जवाब कविता लिखी है | आंसूंओं का मूल्य क्या है? इसे ग़म के लिएँ जाया नहीं करना है, आने वाली खुशियों के लिएँ संजोकर भी रखना है |
    बहुत अच्छा | धन्यवाद | "

    ReplyDelete
  2. आंसुओं को रखो
    तब के लिए भी
    जब मिलेगा तुम्हें
    अपना खोया हुआ मित्र
    धो देना सारे गिले
    कर देना इनका अचवन ।

    umda rachna hai...

    ReplyDelete
  3. एक अत्यंत ही भाव भरी कविता!

    ReplyDelete
  4. एक अलग भाव दिया है आपने……………सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  5. वों की
    पतवार लिए
    तिरते हैं ये
    घड़ी - घड़ी
    इन्हें यूं तनहा
    मत छोडो
    बिखर जायेंगे
    कड़ी - कड़ी ।
    BAHUT GAHRE ARTH

    ReplyDelete
  6. तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति - आभार.

    ReplyDelete
  7. आप की रचना 20 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

    ReplyDelete
  8. हर बहता आँसू कितना गहरा अनुभव दे जाता है।

    ReplyDelete
  9. aansu pr likh diya he bhut kuch apne dhaansu , akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  10. सच है कि बहुत खुशी मिलने पर भी आँसू आ जाते हैं ...बहुत बढ़िया भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. ashu ko valuable bana diya apne

    ReplyDelete
  12. आंसुओं को यूं
    जाया न करो
    रखो उन खुशियों के लिए
    जो चाहता हूँ
    मैं देना तुम्हें ।

    ओह....क्या भाव हैं...
    और अभिव्यक्ति - ग्रेट !!!!

    कोमल भावों की यह मोहक अभिव्यक्ति मन लुभा गयी...

    ReplyDelete
  13. संभाल के रखो इन आँसुओं को ... पर ये कम्बख़्त किसी की मानते कहाँ हैं ....
    बहुत खूब ... अच्छे ज़ज्बात हैं इस रचना में ...

    ReplyDelete