Sunday, August 15, 2010

सपने और संघर्ष

उठाई जब कलम
रचने को इतिहास
ख़ुशी से लगे इतराने
मेरे कागजात ।


चेहरा मेरा
दर्प से नहाया
आज मुझे भी कुछ
अभिमान हो आया ।


समय की भट्टी ने
चाहा जिसे खोना
गर्दिशों में तप कर
कुंदन हुआ सोना ।

झलकता है इस से
जीतने का जज्बा
अनवरत संघर्षो से
पाने को एक रूतबा ।

लिखते हुए हरफ आखिरी
थरथरा उठी थी नाजुक कलाई
दुआओं के बल पर उठाया जिन्होंने
उनकी स्मृति में आ गई रुलाई ।

पाकर यह मुकाम
मन में थी ख़ुशी
पर एक हूक भी थी
ऊंचाई पर अकेले होने की ।


क्षितिज हूँ मैं
जहाँ मिलते हैं
सपने और संघर्ष
गढ़ने को नई सुबह ।

(नोट: यह कविता तब लिखी थी जब पहली बार राजपत्रित अधिकारी बन कर किसी के कागजात को अभिप्रमाणित कर रही थी। यह कविता अपने पूज्य पिताजी को समर्पित करती हूँ, जिनके सपने और संघर्ष से मैं कोई मुकाम हासिल कर सकी। )

17 comments:

  1. स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आपको बहुत बहुत बधाई .कृपया हम उन कारणों को न उभरने दें जो परतंत्रता के लिए ज़िम्मेदार है . जय-हिंद

    ReplyDelete
  2. kavita ka sandarbh jan kar uske shabd aur mukhar ho gaye.har shabd pahli jimmedari se upaji bechaini,hook aur sapane aur aashirvad ke samanjasya ko mukharit karti hai.
    bahut sunder rachna........

    ReplyDelete
  3. लिखते हुए हरफ आखिरी
    थरथरा उठी थी नाजुक कलाई
    दुआओं के बल पर उठाया जिन्होंने
    उनकी स्मृति में आ गई रुलाई
    ye aansu tham bhi nahin sakte

    ReplyDelete
  4. स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आपको बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  6. aapka har situation me likha lenaa aur yathaasamay apno ko yaad karate hue kavitaa karanaa achha lgtaa hi

    ReplyDelete
  7. लेखन मे बडी परिपक्वता है…………वृहद दृष्टिकोण्………………बेहद उम्दा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. ye sach hi to hai ki sangarsh karne se hi sapne pure hote hain nahin to ve keval sapne hi rah jate hain

    ReplyDelete
  9. मंगलवार 17 अगस्त को आपकी रचना ( माचिस की तीली )... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ....आपका इंतज़ार रहेगा ..आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है ... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. गहरे भाव लिए उत्तम रचना

    ReplyDelete
  11. क्या आप "हमारीवाणी" के सदस्य हैं? हिंदी ब्लॉग संकलक "हमारीवाणी" में अपना ब्लॉग जोड़ने के लिए सदस्य होना आवश्यक है, सदस्यता ग्रहण करने के उपरान्त आप अपने ब्लॉग का पता (URL) "अपना ब्लाग सुझाये" पर चटका (click) लगा कर हमें भेज सकते हैं.

    सदस्यता ग्रहण करने के लिए यहाँ चटका (click) लगाएं.

    ReplyDelete
  12. bhut khub qlm ke ishaare pr kaagz ko nchaane kaa hunr aapkaa nayaab or bemisaal he. akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  13. जीवन आशान्वित हो जी रहा है।

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  15. "क्षितिज हूँ मैं
    जहाँ मिलते हैं
    सपने और संघर्ष
    गढ़ने को नई सुबह"--
    sapne aur sangharsh ke parinami bimb ko kshitij tak le jakar apne dono ko jo vistar diya hai,wakai kabile taarif hai.aik adbhut sabera hai yah jahan umeed ki rashmiyan hi hain aur kuch nahi.

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी भावाभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  17. आपकी कविता 'सपने और संघर्ष' प्रेरित करती हुई कविता है जिसमे आपने नारी के भीतर छुपी अदम्य इच्छा शक्ति, जुझारूपन को दर्शाया है... आत्म्कथ्यताक्मक कविता होते हुए भी यह कविता सार्वभौमिक है और गंभीरता लिए हुए है... आप यो ही आगे बढती रहे... नोट देकर आपने कविता को अलग दिशा दे दी... जिन्होंने आपके भीतर लड़ने.. बढ़ने और सपने देखने का जज्बा भरा.. उन्हें मेरा भी नमन...
    ये पंक्तिया काफी अच्छी हैं :
    समय की भट्टी ने
    चाहा जिसे खोना
    गर्दिशों में तप कर
    कुंदन हुआ सोना ।

    कविता का अंत बेहद प्रभावशाली है और बिम्ब भी गढ़ता है..
    क्षितिज हूँ मैं
    जहाँ मिलते हैं
    सपने और संघर्ष
    गढ़ने को नई सुबह ।

    ReplyDelete