Wednesday, July 14, 2010

मंजरियाँ

आम्र पर बौर आये हैं
लगता वसंत की अगुवाई है
कोकिल ने छेड़ी मधुर तान
बजी ऋतुओं की शहनाई है ।

शुभ्र आगत का संकेत
लाई आम की मंजरियाँ
सुख वैभव की लिए पालकी
सस्वर हैं गाती ठुमरियां ।

हम सब की प्रिय हो तुम
देवों के सिर चढ़ इठलाती हो
तुम पावन, तुमसे पल्लव
प्रतीक सृजन की कहलाती हो ।

मंजरियाँ आयें शुभ आगम
कामदेव की विधा हो तुम
समृद्धि का रहे समागम
भावों की भीनी भोर हो तुम ।

मंजरियों की अलकें लगी झूलने
कोई गीत पुराना याद आया
मन गलियों में लगा घूमने
कल में आज है डूब गया ।

तुम्हीं से फल सिरमौर बना
जग में ऊँचा इसका धाम
सुगंध से है सरताज बना
सांवरिया का जैसे नाम ।

आया ऋतुराज तुम भी आओ
प्रकृति ने भेजी मधुशाला
मौसम पर मादकता छा दो
छलका दो अपनी प्रीत का प्याला ।

8 comments:

  1. भावपूर्ण रचना के लिये बधाई !

    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  2. गहराई से लिखी गयी एक सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  3. आपकी कविता पढ़ने पर लू में शीतल छाया की सुखद अनुभूति मिलती है।

    ReplyDelete
  4. 17.07.10 की चिट्ठा चर्चा में शामिल करने के लिए इसका लिंक लिया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. प्रकृति की मधुशाला की हाला कब से पीना जाहता हूँ।

    ReplyDelete
  6. आपके मंजरियों से बहुत मोहक खुशबू आ रही है! शब्दों से बहुत रोमांचित कर देने वाला बिम्ब रचा है आपने !

    ReplyDelete