Friday, May 20, 2011

सृजन के बीज



अपने आँगन की क्यारी में
बीज सृजन के मैंने बोये
गर्भ गृह में समा गया क्या
सोच सोच कर मन रोये ।

एक सुबह देखा मैंने
पाषाण धरा को चीर
बाती सा एक अंकुर
मुस्काया, हरी मेरी पीर ।

मैं रोज सींचती ममता से
था उल्लास नहीं खोया
सर सर समीर झुलाती उसको
जैसे अबोध शिशु हो सोया ।

आस थी कब पल्लवित होगा
कब आयेंगे उस पर फल
मेरे हर्ष का पार न होगा
मेरी सृजना हो जाये सफल ।

कैसा था वह सुखद प्रभात
जब कली ने आँखें खोली
दुलराती उसको देख देख
इतराई मैं, वह थी अलबेली ।

अंतर में कितने पराग लिए
इसका उसको भान ना था
साथ में थे मेरे सपने 
उसे जरा अभिमान ना था । 

पुष्प खिला उपहार मिला 
मेरे जीवन में आया वसंत 
तितली बोले, मधुकर डोले 
आम्र बौर कितनी पसंद । 

किसको दूं यह कुसुम सुगन्धित 
खुशबू जिसमे रच बस जाए
डाली से कोई दूर ना हो
इच्छा, यहीं अमर हो जाए ।

23 comments:

  1. अंतर में कितने पराग लिए
    इसका उसको भान ना था
    साथ में थे मेरे सपने
    उसे जरा अभिमान ना था ।

    बहुत सुन्दर भाव मयी रचना

    ReplyDelete
  2. आपने एक माँ की कोमल भावनाओं को कविता में बहुत ही बखूबी गूंथा है !
    आपकी अभिव्यक्ति मन को छूती है !
    आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत मखमल जैसी सुन्दर और भावप्रणव रचना!

    ReplyDelete
  4. एक माँ के ह्रदय से ही इतनी सुकोमल रचना जन्म ले सकती है!! आप नियमित क्यों नहीं लिखतीं??

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत कविता हैँ ।
    मन के एहसासोँ की अच्छी अभिव्यक्ति हुई हैँ

    ReplyDelete
  6. बहुत सूम्दर रचना।
    • इस कविता में आपकी वैचारिक त्वरा की मौलिकता नई दिशा में सोचने को विवश करती है।

    ReplyDelete
  7. किसको दूं यह कुसुम सुगन्धित
    खुशबू जिसमे रच बस जाए
    डाली से कोई दूर ना हो
    इच्छा, यहीं अमर हो जाए ।
    Kitni manoharee ichha hai!

    ReplyDelete
  8. प्राकृतिक उपालम्भों ने बहुत सुन्दर स्वर दिये हैं

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर, सब कुछ है इस कविता में।

    अंतर में कितने पराग लिए
    इसका उसको भान ना था
    साथ में थे मेरे सपने
    उसे जरा अभिमान ना था ।

    बधाई

    ReplyDelete
  10. मैं रोज सींचती ममता से
    था उल्लास नहीं खोया
    सर सर समीर झुलाती उसको
    जैसे अबोध शिशु हो सोया

    BAhut bhavpoorn panktiyan

    ReplyDelete
  11. डाली वल्लों तोड़ न सानुं,
    असीं हट्ट महक दी लाई,
    लख बंदे जे आके सूंघें,
    कोई खाली हाथ न जाई।

    खुशबुओं का संसार बरकरार रहे।

    ReplyDelete
  12. मैं रोज सींचती ममता से
    था उल्लास नहीं खोया
    सर सर समीर झुलाती उसको
    जैसे अबोध शिशु हो सोया ।
    बहुत खूबसूरत !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - स्त्री अज्ञानी ?

    ReplyDelete
  13. किसको दूं यह कुसुम सुगन्धित
    खुशबू जिसमे रच बस जाए
    डाली से कोई दूर ना हो
    इच्छा, यहीं अमर हो जाए ।
    sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  14. डाली से कोई दूर ना हो
    इच्छा, यहीं अमर हो जाए.

    वाह जी,क्या बात है .

    ReplyDelete
  15. बाती सा एक अंकुर
    मुस्काया, हरी मेरी पीर ।....ati sundar

    ReplyDelete
  16. डाली से कोई दूर ना हो
    इच्छा, यहीं अमर हो जाए.
    बहुत ही सुंदर,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. कैसा था वह सुखद प्रभात
    जब कली ने आँखें खोली
    दुलराती उसको देख देख
    इतराई मैं, वह थी अलबेली ।... बहुत सुन्दर सपनो का सं सार बसाया .
    सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  18. अंतर में कितने पराग लिए
    इसका उसको भान ना था
    साथ में थे मेरे सपने
    उसे जरा अभिमान ना था ।

    ...कोमल अहसासों से परिपूर्ण बहुत भावपूर्ण रचना..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  19. बहुत कोमल अहसास..सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  20. डाली से कोई दूर ना हो
    सुंदर भाव!

    ReplyDelete