Friday, October 1, 2010

रोना न आया

बीज समाया धरती में
अंकुर चाहे देखूं भोर
खींच ली निर्दयी ने
मेरे जीवन की डोर
सुगबुगाना भी न आया ।

सृष्टि के उपवन में
सुकोमल एक कली खिली
कोपल थी अपनी धुन में
किया विलग वो धूल मिली
कुनमुनाना भी न आया ।

कुछ और बरस बीते
उम्र थी देखू सपनों को
ऊँची उड़ान जगत जीते
निर्मोही क़तर गया पंखों को
पलक झपकाना भी न आया ।

मेरे हिस्से का आसमान
मेरी इच्छा बलवती पले
था किसी और का बागवान
सरका दी धरती पाँव तले
जरा डगमगाना भी न आया ।

आहट भेजी जब वसंत ने
फिर से मन बौराया
सपने बुने बावरे नैनों ने
उनका चटक रंग चुराया
फिर भी मुझे रोना न आया .

30 comments:

  1. एक बेहतरीन भावप्रवण दिल मे उतरने वाली प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. बीज समाया धरती में
    अंकुर चाहे देखूं भोर
    खींच ली निर्दयी ने
    मेरे जीवन की डोर
    सुगबुगाना भी न आया ।

    बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन, बस हृदय छू कर निकल गयी।

    ReplyDelete
  5. मेरे हिस्से का आसमान
    मेरी इच्छा बलवती पले
    था किसी और का बागवान
    सरका दी धरती पाँव तले
    जरा डगमगाना भी न आया ।
    खूबसूरती से मन के एहसासों को लिखा है ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  7. आहट भेजी जब वसंत ने
    फिर से मन बौराया
    सपने बुने बावरे नैनों ने
    उनका चटक रंग चुराया
    रामपती जी बहुत सुन्दर रचना है बधाई।

    ReplyDelete
  8. बहुत है सशक्त और सुंदर अभिव्यक्ति है
    हर पहरा बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  9. करते रहा करतब कई ...
    मुझे आंसुओं से नहलाने को ...
    कितनी सख्त बंजर थी आँखे ...
    फिर भी रोना ना आया ...
    भरे ह्रदय की कविता ...!

    ReplyDelete
  10. बहुत बेहतरीन!

    ReplyDelete
  11. bhut hi saral shbdo me shj bhav se anubhootiyo ko abhivykt krti shandar prstuti ke liye bdhaai our dhnywaad .

    ReplyDelete
  12. आहट भेजी जब वसंत ने
    फिर से मन बौराया,,,,,,
    सुंदर प्रस्तुति....
    नवरात्रि की को बहुत बहुत शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  13. मैं तो सोच रहा था कि तुकान्त हिन्दी कविता लिखने वाले अब कम ही रह गये हैं! मगर आपके यहाँ आकर निराश नही होना पड़ा!
    --
    आहट भेजी जब वसंत ने
    फिर से मन बौराया
    सपने बुने बावरे नैनों ने
    उनका चटक रंग चुराया
    फिर भी मुझे रोना न आया ....
    ---
    बहुत सुन्दर शब्द चयन!
    बढ़िया कविता!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति...बधाई...

    ReplyDelete
  15. Dil ko chhooti hui, Bhavnaon ko sahlati... door tak kasak jagati Bhavbheeni prastuti par kotishah badhayee.

    -Rajan

    ReplyDelete
  16. Shavdon ka chayan aur prayog achha laga. Shavdon ko khubsurati se piroya gaya hai.Mere blog par bhi comment dekar mujhe prerit karein. Dhanyavad.

    ReplyDelete
  17. मेरे हिस्से का आसमान
    मेरी इच्छा बलवती पले
    था किसी और का बागवान
    सरका दी धरती पाँव तले
    जरा डगमगाना भी न आया ।...

    Beautiful presentation !

    .

    ReplyDelete
  18. कविता के भाव मन को छूते हैं !
    अच्छी पोस्ट के लिए धन्यवाद !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  19. आहट भेजी जब वसंत ने
    फिर से मन बौराया
    सपने बुने बावरे नैनों ने
    उनका चटक रंग चुराया
    फिर भी मुझे रोना न आया ...
    सुंदर पंक्तियाँ है ... आचे भाव संजोय हैं ....

    ReplyDelete
  20. दिल की गहराईयो को छूने वाली, गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर भाव - भूमि पर कविता

    ReplyDelete
  22. Hi..

    Man ki antarvyatha kabhi bhi, samjhana hai na aaya..
    Aas paas hi rahe blog ke..
    Kuchh kah pana na aaya..

    Kavita ke antarbhavon main, hain ahsaas sanjoye jo..
    Padhkar hum khamosh ho gaye..
    Muskana bhi na aaya..

    Aaj pahli baar aapke blog par aaya hun.. Lagta hai aap bhi meri tarah masruf rahti hai aur lambe antral par nayi post likhti hain..

    Aaj se main aapke blog ka anusarankarta hua..

    Deepak..

    ReplyDelete
  23. एक बेहतरीन दिल मे उतरने वाली प्रस्तुति........

    ReplyDelete
  24. अच्छे शब्द
    अच्छी तरतीब
    अच्छी रचना . . .

    ReplyDelete
  25. सुख-दुख, हंसना-रोना, धूप-छांव ज़िन्दगी जीना सिखाते हैं ! सुन्दर रचना ! मेरे ब्लोग पर भी आएं !

    ReplyDelete
  26. सुन्दर रचना
    ऐसी सार्थक रचना के लिए बहुत - बहुत बधाई

    ReplyDelete
  27. आज आपकी कविता दुबारा पढी और कमेंट किये बिना न रह सका। सचमुच बहुत सुंदर हैं आपके भाव। जीवनी रस से सरोबार।

    ---------
    आपका सुनहरा भविष्‍यफल, सिर्फ आपके लिए।
    खूबसूरत क्लियोपेट्रा के बारे में आप क्‍या जानते हैं?

    ReplyDelete