Tuesday, July 30, 2019


Image result for pagdandi in a field

एक पड़ाव 

जीवन की पगडण्डी पर
मैं यूँ ही चलता जाता था 
मुट्ठी में थे अतरंगी सपने
उनमें रंग भरता जाता था
                             राह में मिले बहुत से साथी
                            कुछ अपने कुछ थोड़े बेगाने
                            कुछ दूर चले फिर छूट गए
                             बस साथ चले उनके अफ़साने
धूप छाँव सा  है जीवन
हँसते गाते बस बीत रहा
नित नई चुनौती नया राग 
बस समय चक्र यूं घूम  रहा 
                                     फिर एक सुरमई शाम ढली
                                     ठहराव एक आने को है 
                                      मंजिल खड़ी  है बांह पसारे 
                                      पारी नई शुरु होने को है 
कल फिर सूरज निकलेगा
फिर पंछी गीत सुनाएंगे 
जाना मुझको एक नई राह
कहकर मुझको समझायेंगे 
                                     
                                         जब था दफ्तर  में पहला दिन
                                        लगता जैसे हो कल की बात 
                                        नई नौकरी , नया उत्साह 
                                        और आज विदाई  को तैयार  
जाता हूँ मैं  आज 
पूरा करके एक सफर
कल लौट फिर  आऊंगा 
बनकर फिर से एक हमसफ़र 
                                     
                                        यारों मुझको भुला न देना 
                                         यादों में बस जाऊंगा 
                                         भूल नहीं जाना तुम मुझको 
                                         मैं भी भूल न पाऊंगा  . 

1 comment:

  1. I feel very grateful that I read this. It is very helpful and very informative and I really learned a lot from it.

    ReplyDelete